BhoomiNews

दावा: जबसे चीन से फैले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है। तभी से सोशल मीडिया साइट पे कोरोना वायरस से जुड़े फेक न्यूज़ तैरते रहता हैं। इसी दौड़ में WhatsApp पर एक समचार पत्र का फोटो शेयर किया जा रहा है, जिसमें दावा किया गया है कि "बिहार स्वास्थ्य विभाह ने पोल्ट्री मुर्गी को पुन: जांच कर कोरोना वायरस पुष्टि की है."

Bhoominews
WhatsApp

समाचार पत्र के फोटो के ऊपर 'दैनिक जागर' लिखा हुआ साफ-साफ दिख रहा हैं। ये इस तरफ इशारा कर रहा हैं कि दैनिक जागरण में 12 अप्रैल को छपा था। तस्वीर में 12 अप्रैल अंकित हैं। 

सच या झूठ?
वायरल हो रही फोटो में किसी भी तरह का सच्चाई नहीं है। ये फोटो फेक है क्योंकि ऑनलाइन किसी टूल के सहायता से बनाया हुआ लग रहा हैं। हमने दैनिक जागरण के ePaper को 12 अप्रैल के अंक को चेक किया, उसमें इस तरह का खबर नहीं मिला। बिहार स्वास्थ्य विभाग ने अपने फेसबुक पेज साफ लिखा हैं कि "12 अप्रैल 2020 को कुछ अख़बारों में छपा है की स्वास्थ्य विभाग द्वारा पोल्ट्री मुर्गी की जाँच में कोरोना वायरस पाया गया - यह फ़र्ज़ी खबर है और राज्य स्वास्थ्य समिति इसका खंडन करती है और आगाह करती है की तथ्यों को जाँच के उपरांत ही खबर छापी जाए।" हमारे पड़ताल ये खबर झूठ हैं।  


12 अप्रैल 2020 को कुछ अख़बारों में छपा है की स्वास्थ्य विभाग द्वारा पोल्ट्री मुर्गी की जाँच में कोरोना वायरस पाया गया - यह फ़र्ज़ी खबर है और राज्य स्वास्थ्य समिति इसका खंडन करती है और आगाह करती है की तथ्यों को जाँच के उपरांत ही खबर छापी जाए। #BiharHealthDept #IndiaFightsCorona Bihar Health Department

bihar-health-department

Post a Comment

أحدث أقدم